रोज अलसी खाकर कंट्रोल करें डायबिटीज !

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक कैनेडियन स्टडी के अनुसार चार हफ़्ते तक 50 ग्राम अलसी खाने वाले लोगों में  इसे खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल 27 प्रतिशत कम होता देखा गया।  अलसी खाने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल रहता है। यह टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज के रिस्क को कम करती है। अलसी के फायदों को देखते हुए डॉक्टर्स डायबिटीक पेशेंट को रोज अलसी खाने की सलाह देते हैं।

नानावटी हॉस्पिटल, मुंबई की चीफ डायटीशियन डॉ. उषा किरण सिसोदिया कहती हैं  रोज अलसी खाने से वजन कंट्रोल रहता है। इससे कब्ज की प्रॉब्लम दूर होती है। अलसी से बॉडी की इम्युनिटी इम्प्रूव होती है। फाइबर रिच फूड होने की वजह से यह ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने में मदद करता है। उषा के अनुसार डायबिटीज पेशेंट को दिन में तीन बार एक चम्मच अलसी को गर्म पानी के साथ लेना चाहिए। आप चाहें तो अलसी को दरदरा पीस कर रख लें। रोज दो चम्मच अलसी को गर्म पानी के साथ लें। अगर अलसी को इस तरह खाना पसंद न हो तो  इसे पीसकर आटे में मिला लें। इस आटे से बनी रोटी भी खा सकते हैं।

महर्षि आयुर्वेद हॉस्पिटल, नई दिल्ली की डॉ. भानु शर्मा के अनुसार अलसी में फाइबर्स, अल्फा लिनोलेनिक एसिड और जरूरी फैटी एसिड्स होते हैं  जो डायबिटीज पेशेंट को कब्जियत से बचाताे हैं। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि अलसी की तासीर गर्म होती है। इसलिए गर्मी में इसे नहीं खाना चाहिए। जबकि अलसी को सीमित मात्रा में किसी भी मौसम में खा सकते हैं।

दुनिया के 127 हेल्दी फूड में से एक अलसी में एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी वायरल एलिमेंट्स होते हैं। अलसी खाने से बॉडी की इम्यूनिटी बढ़ती है। अलसी को पीसकर इसका पाउडर बना लें। इसे वेजिटेबल या फ्रूट जूस में मिलाकर ले सकते हैं। डॉ. भानु शर्मा कहती हैं कि  साबुत अलसी अधिक समय तक घर में रखने पर भी खराब नहीं होती है लेकिन अगर आप इसका पाउडर बनाकर रखते हैं, तो वो जल्दी खराब हो सकता है। इसलिए जरूरत के मुताबिक की अलसी को पीसें। कुछ लोगों को ज्यादा सिकी हुई अलसी पसंद होती है। जबकि कई लोग अलसी को घी में भुनकर भी खाते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो याद रखें  ज्यादा भुनने या देर तक फ्राई  करने से अलसी में मौजूद प्रॉपर्टीज कम हो जाती है। इससे इसका टेस्ट भी खराब होता है।

ऐसे भी खा सकते हैं अलसी : 

1. राज नाश्ते में कॉर्नफ्लेक्स के साथ अलसी और दूध मिलाकर खाएं।

2. स्मूदी में  अलसी का पाउडर मिलाकर लेना भी डायबिटीज पेशेंट के लिए फायदेमंद माना जाता है।

3. दही में फलों के साथ अलसी का पाउडर मिलाकर ले सकते हैं।

4. सलाद में अलसी को कूटकर मिला लें। इसे सलाद की टॉपिंग के लिए भी यूज किया जा सकता है।

5. अगर आप सूप के शौकीन हैं तो सूप पीने से पहले उसमें अलसी को पीसकर मिला लें। इससे सूप का टेस्ट बढ़ेगा और अलसी के फायदे भी आपको मिलेंगे।

ऐसे बनाएं अलसी का रायता  : 

सामग्री : 

लौकी (कद्दूकस की हुई) – 1 कप दही – 1 कप

पुदीना  (कटा हुआ) – आधा कप
जीरा (पिसा हुआ) – 1/ 4 टी स्पून
काला नमक  – 1/ 4 टी स्पून
अलसी का पाउडर – 1 टी स्पून

नमक – स्वादानुसार

बनाने का तरीका : 

कद्दूकस की हुई लौकी को कम आंच पर पांच मिनट तक उबालें। इसे छलनी में निथार लें। ऊपर बताई गई सारी सामग्री को दही में मिला लें। इसे एक घंटे तक फ्रिज में रखने के बाद सर्व करें।
                                                                              
                                                                              Usha Kiran Sisodiya

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.