आपकी त्वचा बता सकती है आपकी उच्च रक्त शर्करा के स्तर के बारे में!

मधुमेह आपके शरीर के हर हिस्से को प्रभावित कर सकता है; और उसके असर से आपकी त्वचा भी बच नहीं सकती! दरअसल, मधुमेह से ग्रस्त लोगों को ज्यादा खतरा होता है विभिन्न प्रकार की त्वचा की समस्याओं और उनके कारण उत्पन्न होने वाली जटिलताओं का। इसके अलावा, कई मधुमेह रोगियों में लंबे समय तक मधुमेह होने से त्वचा विकार उत्पन्न हो सकते हैं, लेकिन कुछ मामलों में, त्वचा की समस्याएं भी मधुमेह का पहला संकेत हो सकती हैं। तो, जब मधुमेह त्वचा को प्रभावित करता है, यह अक्सर एक संकेत होता है कि आपके रक्त शर्करा (ग्लूकोज) का स्तर बहुत अधिक हैं । इसका अर्थ यह हो सकता है कि:

  • आप आपने छिपा हुआ मधुमेह है या पूर्व मधुमेह है अथवा
  • मधुमेह के लिए  इलाज में आपको अपनी रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए कुछ परिवर्तन की आवश्यकता हो सकती है।

मधुमेह के साथ कुछ आम त्वचा की समस्याएं

  1. त्वचा का काला और अधिक मोटा होना

यह विशेष रूप से गर्दन, कांख, कमर, हाथ, कोहनी और घुटनों के क्षेत्रों में होता है । इस हालत को अकन्थोसिस निगरिकन्स कहा जाता है ।

  1. एलर्जी

यह त्वचा पर चकत्ते, उभार और गड्ढों का कारण बनता है, विशेष रूप से इंसुलिन इंजेक्शन के क्षेत्रों में ।

  1. रक्त वाहिकाओं का संकुचन या उनकी दीवारों का मोटा होना, इसे एथेरोक्लेरोसिस भी कहा जाता है।

यह स्थिति त्वचा के लिए रक्त उपलब्ध कराने वाली वाहिकाओं को प्रभावित कर सकती है। यह बालों के झड़ने का कारण बन सकती है, त्वचा पतला होना, मोटा होना, पैरों के नाखूनों का रंग फीका पड़ना और ठंडी त्वचा इसकी वजह से हो सकते हैं ।

  1. बैक्टीरिया संक्रमण

इसके कारण त्वचा गर्म, सूजी हुई, लाल और दर्दनाक हो सकती है । ये पलकों को प्रभावित कर सकता है जिससे बिलनी, त्वचा पर फोड़े, बालों के रोम के संक्रमण या यहां तक कि बालतोड़ भी हो सकता है (त्वचा और उसके नीचे ऊतक का गहरा संक्रमण)।

  1. फंगल संक्रमण

कैनडीडा अल्बिकन्स नामक कवक इस तरह के फंगल संक्रमण के लिए जिम्मेदार होता है। यह नम, लाल खुजली के चकत्ते बनाता है जो छोटे फफोले और शल्कों से घिरे होते हैं। यह संक्रमण अक्सर त्वचा की गर्म, नम परतों में होते हैं जैसे कि स्तनों के नीचे, नाखून के आसपास, उंगलियों और पैर की उंगलियों के बीच, मुंह के कोनों में और कांख तथा कमर में ।

  1. मधुमेह के छाले

ये जलने के छाले के समान होते हैं जो कि मधुमेह वाले लोगों की त्वचा पर बन सकते हैं।

  1. डिजिटल स्केलेरोसिस

इसमें आपकी उंगलियों, पैर की उंगलियों और हाथों पर त्वचा मोटी, चिकनी और सख्त हो जाती है ।

  1. विटिलिगो

एक स्थिति जो त्वचा के रंग को प्रभावित करती है जिसके परिणाम स्वरुप त्वचा में फीके रंग के धब्बे बन जाते हैं। यह अक्सर कोहनी, घुटनों, हाथों और चेहरे को प्रभावित करता है यह स्थिति मुख्य रूप से प्रथम प्रकार के मधुमेह को प्रभावित करती है ।

  1. आपकी त्वचा पर पीले, लाल, या भूरे रंग के धब्बे

यह त्वचा स्थिति अक्सर मुहांसों की तरह लगती है । यह सूजे और कठोर त्वचा के धब्बे में विकसित हो जाते हैं। यह धब्बे पीले, लाल या भूरे रंग के हो सकते हैं । त्वचा चमकदार लगने लगती है, रक्त वाहिकाओं दर्शाती है और उस हिस्से में खुजली और दर्द होता है। इस स्थिति को नेक्रोबोसिस लिपॉइडिका भी कहा जाता है।

  1. खुले फोड़े और घाव

लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा (ग्लूकोज) होने से कमजोर रक्त संचरण और तंत्रिका क्षति हो सकती है। कमजोर संचरण और तंत्रिका क्षति आपके शरीर के लिए घाव भरना मुश्किल कर सकते हैं। यह विशेष रूप से पैरों पर लागू होता है। इन खुले घावों को मधुमेह के अल्सर कहा जाता है ।

  1. अत्यंत, सूखी खुजली वाली त्वचा
  2. त्वचा की वृद्धि

ये एक डंठल से लटकी होती हैं और ऐसी कई वृद्धि का होना आपके शरीर में बहुत अधिक इंसुलिन का संकेत हो सकता है या आपको टाइप 2 मधुमेह हो सकता है ।

क्या किया जाए!

एक बार आप में त्वचा की ये समस्याएं दिखाई दें तो यह अपरिहार्य हो जाता है कि आप;

१. यदि आप में अभी तक अभी मधुमेह का पता नहीं चला है लेकिन ऐसे त्वचा परिवर्तन का अनुभव हो रहा है, तो मधुमेह के लिए परीक्षण करवाएं।

२. यदि आपमें पहले ही मधुमेह पाया जा चुका है तो अपने डायबिटीज विशेषज्ञ से परामर्श करें। आपके विशेषज्ञ को शायद मधुमेह के बेहतर नियंत्रण के लिए आप की दवा की खुराक पर फिर से काम करना पड़ सकता है।

३. अपनी त्वचा समस्या के उपचार के लिए किसी त्वचा विशेषज्ञ से भी मिलने पर विचार करें ।

४. त्वचा की उचित देखभाल की दिनचर्या का पालन करें ।

हालांकि, अच्छी खबर यह है कि ज्यादातर त्वचा स्थितियों का आसानी से इलाज किया जा सकता है अगर वे जल्दी पकड़ में आ जाएँ। लेकिन, अगर उनकी ठीक से परवाह नहीं की जाए , तो एक छोटी सी त्वचा स्थिति भी किसी गंभीर समस्या में बदल सकती है, विशेष रूप से मधुमेह के रोगियों में ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.